Meetha khane ke nuksan

मीठा खाना बहुत सारे लोगों को पसंद होता है फिर चाहे वह बच्चें हों या बड़े। यही नहीं थोड़ी सी मीठी चीज खाने के बाद थोड़ा और खाने मन करता है। आजकल अधिकतर चीजे मीठे से भरपूर होती है फिर चाहे वह चॉकलेट हो या आइस क्रीम।

मार्केट में मिलने वाले अधिकतर पैक्ड फूड सुगर इत्यादि से भरपूर होते हैं। और क्या आप जानते हैं कि इन्हीं चीज़ों के सेवन करने से हमें कई नुकसान होते है। बहुत सारे लोगो को डॉक्टर और स्वास्थ्य विशेषज्ञों की यही राय होती है कि अपने खाने में कम मीठे का इस्तेमाल करें।

क्यूंकि आजकल लोग कम कसरत या शारीरिक कार्य करते हैं इसके कारण मीठे से होने वाले नुकसान बीडीडी जाते हैं और कई गंभीर बीमारियों का रूप ले लेते हैं। इस आर्टिकल में आपको मीठे के नुकसान के बारे में बताया गया है साथ ही उसके फायदे, इस्तेमाल और रोजाना मात्रा को भी बताया है।

Meetha khane ke nuksan

मीठा खाने के कई नुकसान होते हैं क्यूंकि मीठा खाना स्वादिष्ट होता है इसलिए हमें पता नहीं चलता कि हमने कितना खाया है और इसके कारण आप मात्रा से अधिक कैलोरीज़ ले लेते हैं। जिसके कारण आपका मोटापा बढ़ने लगता है और आपको और भी समस्याएं होने लगती है। क्यूंकि मीठे खाने में भारी मात्रा में कैलोरीज़ होती है जिसके कारण आपका वजन तेजी से बढ़ता है।

Meetha khane se motapa badhta hai

मीठा या सुगर कार्बोहाइड्रेट का ही एक प्रकार है जिसे सिम्पल कार्बोहाइड्रेट भी कहा जाता है और 1ग्राम कारबोहाइड्रेट में 4 कैलोरीज़ होती है। सिम्पल कार्बोहाइड्रेट शरीर में जाते ही 1घंटे के अंदर ही पूरी तरह पच जाता है और ग्लूकोज बन कर शरीर के खून में मिल जाता है जिसके कारण वह आपके शरीर में भारी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न करता है। जितनी ऊर्जा आप इस्तेमाल के लेते है उसके अलावा जो ऊर्जा शेष रह जाती है वह शरीर में बाद के कार्यों के लिए जमा हो जाती है।

लेकिन आजकल लोग कसरत और शारीरिक कार्य कम करते हैं इसलिए यह ऊर्जा इस्तेमाल नहीं होती और रोजाना भारी मात्रा में मीठे का इस्तेमाल रोज ऐसे ही ऊर्जा जमा करता रहता है। कुछ समय में आपके शरीर के अंदर यह मात्रा बढ़ जाती है जिसके कारण आपका वजन बढ़ने लगता है और आप मोटे होने लगते हैं।

Meetha khane se daant mein dard

मीठे खाने में कीटाणु या सड़न जल्दी लगती है और यही कारण है कि अधिक मीठा खाने से आपके दांत भी सड़ने लगते हैं और उनमें दर्द भी होता है। क्यूंकि जब भी आप मीठा खाते हैं तो वह आपके दांतों के बीच में रह जाता है और धीरे-धीरे सड़ने लगता है, रोजाना थोड़ी एसिडिक रिएक्शन के कारण कुछ समय में आपके दांत में कीड़ा लग जाता है जिसे कैविटी होने लगती है। इसके कारण दांत में दर्द और मसूड़े भी कमजोर हो जाते है।

Meetha khane se hoti hai diabetes

मीठा खाने से हमारे शरीर में अचानक ग्लूकोज की संख्या बढ़ जाती है जिसके कारण हमारा शरीर इंसुलिन को जारी करता है। इंसुलिन पैनक्रियाज में बनता है जो शरीर में बढ़ी हुई सुगर को शरीर से निकलता है। लेकिन बार-बार मीठा खाने से आपके शरीर में इंसुलिन बार-बार जारी किया जाता है। और कुछ समय बाद आपका शरीर कुछ कारणों से इंसुलिन बनाना कम य बन्द कर देता है जिसके कारण आपके खून में ग्लूकोज बढ़ने लगता है और आपको डायबिटीज के शिकार होने का खतरा बढ़ जाता है।

Meetha khane se HDL kam hota hai

हमारे शरीर में दो प्रकार के कोलेस्ट्रॉल होते हैं एक high density lipoprotein (HDL) यानी अच्छा कोलेस्ट्रॉल और दूसरा low density lipoprotein (LDL) यानी कि खराब कोलेस्ट्रॉल। शरीर के लिए दोनों जरूरी होते है परन्तु LDL की मात्रा बहुत ही कम होनी चाहिए। लेकिन मीठे से आपके शरीर में LDL बढ़ता है और HDL घटता है।

एक्सरसाइज करने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर प्रभावित होता है और इसके बढ़ने के आसार बहुत कम हो जाते हैं। लेकिन अगर आप एक्सरसाइज नहीं करते हैं और मीठा का सेवन अधिक करते हैं तो यह तेजी से बढ़ता है जिससे कारण आपके रक्त वाहिकाओं में LDL इक्कठा होने लगता है और आपके रक्त संचार में बाधा उत्पन करता है। इसके कारण दिल का दौरा इत्यादि समस्याएं हो सकती है।

Haddiyon ko kamjor banata hai

ज्यादा मीठा खाने से हड्डियां कमजोर होने लगती है जिसके कारण फ्रैक्चर या जोड़ो से संबधित समस्याएं भी होती है। इसके अलावा हड्डियों के कमजोर होने से आपके सामान उठाए और धकेलने की क्षमता पर भी फर्क पड़ता है।

Immunity ka kam hona

सुगर या मीठे का अधिक सेवन करने से आपके शरीर के व्हाइट ब्लड सेल्स ठीक से कार्य नहीं के पाते हैं जिसके कारण वह कीटाणुओं से लड़ नहीं पाते है और आप अधिक बीमार होने लगते हैं। ऐसा कई रिसर्च में पाया गया है कि मीठा खाने के 4-5 घंटे तक आपका जीवाणु अच्छे से कार्य नहीं कर पाते है। और अगर आप हर कुछ समय में मीठा का सेवन करते हैं तो यह कार्य नहीं कर पाते है और आपकी इम्यूनिटी कम हो जाती है।

Meetha khane ke nuksan

Meetha khane ke fayde

मीठा खाने के नुकसान ही नहीं कुछ फायदे भी हैं। मीठा हमारे लिए जरूरी भी होता है परन्तु जब हम इसका इस्तेमाल अधिक करने लगते हैं तो यही हमें नुकसान करने लगता है। एथलेटिक्स और जिम ट्रेनर्स जानते है कि मीठे के क्या फायदे होते है और उससे कितना और कब लेना चाहिए। अगर आप भी यह जानना चाहते हैं तो हमारी ebook में आपको इसकी पूरी जानकारी मिलेगी।

Buy Our eBook:- Basic Fitness Guide

Meetha khane se active hote hai

मीठा या सिम्पल कार्ब्स खाने से आपको कुछ ही मिनट्स में बहुत ऊर्जा  मिलती है जिसके कारण आप काफी एक्टिव और एनर्जेटिक महसूस करते हैं। साथ ही अगर आप कोई ताकत संबधित कार्य जैसे जिम य एक्सरसाइज करने वाले है तो यह आपको बहुत मदद करेगा। यह आपके शरीर में ग्लूकोज बढ़ा देता है जो आपको ऊर्जा का स्तर बहुत ज्यादा कर देता है और आप बहुत ही भरा और ताकतवर महसूस करते हैं।

High BP mein hota hai faayda

रोजाना डार्क चॉकलेट खाने से हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में थोड़ी मदद मिलती है। और यह कैंसर, हार्ट अटैक और कई बीमारियों से भी बचाता है। मीठे में flavonoids पाए जाते है को BP को कम करते हैं। हालांकि चॉकलेट की मात्रा 100ग्राम से अधिक नहीं लेनी है।

Rojana meethe ki kitni matra lein

एक आम इंसान को जो एक्सरसाइज नहीं करते है या हल्की एक्सरसाइज करते हैं उन्हें रोजाना लगभग 150 कैलोरीज़ तक ही मीठा खाना चाहिए वहीं को लोग जिम करते हैं और भारी वजन उठाते हैं उन्हें अपनी कार्ब्स की कैलोरीज़ का 20% सिम्पल कार्ब्स लेनी चाहिए। जिसका अर्थ है अगर आप 1000 कैलोरीज़ कार्ब्स से लेते हैं तो उसमे से 200 कैलोरीज़ आपको सिम्पल कार्ब्स से लेनी है और बाकी 800 कैलोरीज़ कॉम्प्लेक्स कार्ब्स से। यह संख्या आपके कार्ब्स की संख्या के हिसाब से बढ़ती या घटती रहेगी जिससे आपके शरीर में HDL और LDL की मात्रा संतुलित रहेगी।

यह थे meetha khane ke nuksan aur fayde अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो हमें कमेंट करके बताएं। इसी तरह के अन्य आर्टिकल्स के लिए हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करें।


%d bloggers like this: