Kidney diseases in hindi

किडनी हमारे शरीर का अहम अंग है जो कई महत्वपूर्ण कार्य करती है। लेकिन कई ऐसी आदतें या कई ऐसे कार्य है जिन्हे करने से इनमें दिक्कत आ जाती है। जाने अंजाने हम कई ऐसे कार्य करते हैं जिनसे हमारी किडनी को भारी नुकसान होता है और समय के साथ हमें परेशानी और तकलीफ़ होने लगती है। और अगर इन्हीं परेशानियों को अधिक समय तक नजरअंदाज किया जाए तो यह बहुत नुकसानदायक साबित होती हैं और कभी-कभी जानलेवा भी।

वैसे किडनी खराब होने के कई कारण होते हैं परन्तु कुछ साधारण कारण है बहुत अधिक मात्रा में नमक या मीठा खाना, शराब इत्यादि का सेवन, बहुत बार अधिक समय तक यूरिन रोकना, अधिक कोल्ड ड्रिंक्स या सौदा पीना इत्यादि। डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर या किसी अन्य बीमारी के करें भी हमारी किडनी में परेशानी आ सकती है।

किडनी हमारे शरीर का बहुत ही महतत्वपूर्ण अंग है और इसके कुछ प्रमुख कार्यों है खून से जहरीले और हानिकारक पदार्थों को मल मूत्र के द्वारा शरीर से बाहर निकालना, शरीर में रसायन को संतुलित करना, हड्डियों की सेहत बढ़ाना, ब्लड प्रेशर कंट्रोल करना, रेड ब्लड सेल्स बनाने के लिए आवश्यक हॉमोंस बनाना इत्यादि। अगर आसान भाषा में कहें तो किडनीयां हमारे शरीर की फिल्टर होती है जो हमारे शरीर से सारे हानिकारक पदार्थो को निकालती हैं। और यही कारण भी है कि यह खराब हो जाती है, क्यूंकि जब आप ऐसी चीजों को अधिक सेवन करने लगते हैं जिनसे आपके शरीर में हानिकारक पदार्थ बढ़ने लगते हैं तो आपकी किडनी पर भी दवाब बढ़ने लगता है। क्यूंकि किडनी आपके शरीर की फिल्टर हैं तो यह जहरीले रसायनों को भी फिल्टर करती है जिससे इससे नुकसान होना शुरू हो जाता है और कुछ समय बाद आपको तकलीफ़ का सामना करना पड़ता है।

किडनी की बीमारी दो तरह की होती है

Acute Kidney Diseases in hindi

यह समस्याएं अचानक हो जाती है, दवा, इंफेक्शन या किसी अन्य हानिकारक पदार्थ के कारण या किसी कारण से पेशाब शरीर से बाहर निकालने में दिक्कत आती है तो इन्हीं कारणों से आपकी किडनी में परेशानी होने लगती है। लेकिन इस समस्या को दवाई इत्यादि से ठीक किया जा सकता है, लेकिन कुछ लोगों की समस्या लंबे समय तक रह कर क्रोनिक किडनी डिजीज बन जाती है।

यह वैसे अधिकतर मामलों में गंभीर नहीं होती और अच्छे से इलाज करवा कर इनसे आपको छुटकारा मिल जाता है और फिर आपकी किडनी अच्छे से कार्य करने लगती है।

Chronic Kidney Diseases in hindi

बहुत अधिक समय तक किडनी में रहने वाली बीमारियां। डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर इत्यादि अधिकतर क्रोनिक किडनी डिजीज के कारण होते है। डायबिटीज में ब्लड सुगर की मात्रा बढ़ जाती है जिसके कारण ब्लड वेसल्स क्षतिग्रस्त हो जाती है और किडनी कार्य करना बन्द कर देती हैं। वहीं ब्लड प्रेशर बढ़ जाने से आपकी किडनी की महीन कोशिकाओं पर दवाब पड़ता है जिसके कारण आपकी किडनी को फंक्शन में दिक्कत आती है।

Kidney diseases in hindi

किडनी की पथरी:- यह एक गंभीर बीमारी है और आजकल काफी ज्यादा लोगो को होती है। किडनी की पथरी आजकल आम समस्या है जिसके होने के कारण हैं- प्रयाप्त मात्रा में पानी नहीं पीना, संतुलित आहार ना लेना, अधिक बाहर का खान-पान खाना इत्यादि। मोटापा, डायबिटीज, हाइपरटेंशन इत्यादि के कारण भी पथरी हो सकती है। किडनी में साल्ट इक्कठा होता है जिसके कारण एक छोटा सा खंड बनता और धीरे-धीरे उसमे साल्ट और बढ़ते जाते हैं जिसके करें वह आकार में बड़े होते हैं।

यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (UTI):- यह पेशाब की नली की समस्या है जिसमें आपकी पेशाब निकलने के रास्ते में इंफेक्शन होने लगता है। इससे आपकी किडनी पर बहुत प्रभाव पड़ता है। यह बच्चो के लिए बहुत घातक हो सकती है।

नेफ्रोटिक सिंड्रोम:- यह बीमारी अधिकतर बच्चो में पाई जाती है। इस बीमारी में आमतौर पर शरीर में बार बार सूजन आती है। हालांकि इससे किडनी पर प्रभाव पड़ता है परन्तु उनके खराब होने की संभावना कम होती है।

पोलिसिस्टिक किडनी डिजीज:- इस बीमारी में दोनों किडनीयों में बहुत ज्यादा संख्या में बुलबुले बन जाते है। कुछ समय बाद किडनी का आकार बढ़ने लगता है और फिर रोजमर्रा का काम करने में दिक्कत होने लगती है। यह हाई ब्लड प्रेशर के कारण भी होती है और यह रोग माता-पिता से बच्चों को हो सकता है।

Kidney damage symptoms in hindi

किडनी खराब होने पर कुछ ऐसे लक्षण होते हैं जिनसे हमें पता चल जाता है कि हमारी किडनी में परेशानी हैं। आपको विस्तार से उनके बारे में बताता हूं

शरीर में ऊर्जा की कमी:- शरीर में ऊर्जा कम होने के कई कारण हो सकते हैं, जैसे कम खाना, संतुलित आहार ना खाना, अधिक थका होना, नींद पूरी न होना इत्यादि। परन्तु आहार आप इनमें से किसी चीज को अधूरा नहीं छोड़ रहे हैं तो इसका अर्थ हो सकता है कि आपकी किडनी में परेशानी हो सकती है।

बहुत अधिक देर तक कमजोरी महसूस होना:- अगर सब कुछ ठीक खाने और भी आप बहुत थके हुए रहते हैं या आपको पूरा दिन कमजोरी महसूस होती है तो यह भी किडनी के खराब होने के लक्षण है।

बहुत बार पेशाब आना:- अगर आपको भी हर थोड़ी देर में पेशाब आता है या रात को बार बार पेशाब आता है तो यह भी किडनी की समस्या हो सकती है। दिन में 6-8 बार पेशाब आना आम बात है खासकर अगर आप अधिक पानी पीते हो तो, लेकिन हर थोड़ी देर में पेशाब आना ठीक नहीं होता और रात को सोने के बाद बार बार पेशाब आना भी इस बात की और इशारा करते हैं की आपकी किडनी ठीक से कार्य नहीं कर रही है।

अचानक त्वचा सूखना:- किडनी खून से हानिकारक पदार्थ निकालती है और खून अधिक मिनरल्स से भरती है। लेकिन आपकी किडनी में परेशानी हो तो यह कार्य करना उसके लिए कठिन हो जाता है जिसकी वजह से आपनी त्वचा अचानक से रूखी या खुरदरी ही जाएगी। इससे त्वचा में खुरदरेपन के साथ खुजली और जलन भी होगी।

पेशाब में खून आना:- किडनी शरीर से खराब पदार्थ छानती जिसके पश्चात हमारा शरीर उससे पेशाब बनाता है। लेकिन अगर किडनी में कोई भी परेशानी है तो खून अच्छे से नहीं छनेगा जिससे आपके पेशाब में खून आएगा। इसके कारण आपको इंफेक्शन या पथरी भी हो सकती है। इससे हलके में ना लें और जल्द डॉक्टर से इस समस्या का इलाज करवाएं।

नींद की समस्या:- किडनी में परेशानी के कारण शरीर में फिल्टरेशन अच्छे से नहीं हो पाता जिससे हानिकारक टॉक्सिंस शरीर में रह जाते है। इसके कारण शरीर में कई ऐसी रसायनिक गतिविधियां होती है जिनसे हमें नींद आने में दिक्कत होने लगती है।

पेशाब में झाग आना:- पेशाब में झाग आने का कारण भी किडनी का ठीक से कार्य ना कर पाना है। फिल्टरेशंन ठीक से ना कर पाना ही पेशाब में झाग आने का कारण होता है जो किडनी की खराबी के कारण होता है।

यह थे कुछ लक्षण जो आपको किडनी की परेशानियों को समझने में मदद करेंगे।

वैसे तो हमारे शरीर में दो किडनी होती है और इंसान एक पर भी जिंदा रहता है लेकिन इसका अर्थ यह नहीं होता की हम उनके प्रति लापरवाही बरते। क्यूंकि एक किडनी पर आप जीवित तो रह सकते हैं लेकिन आपके शरीर की क्षमता भी आधी रह जाती है। आप अधिक कार्य नहीं कर सकते, खाने में बहुत सावधानी बरतनी पड़ती है, अधिक दौड़ नहीं सकते, अधिक कसरत नहीं कर सकते, ज्यादा भार नहीं उठा सकते, और आपकी सेहत भी बहुत साधारण रह जाती है। अपनी किडनी को सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी होती है और अपनी खाने-पीने की आदतों को ठीक करके हम इससे काफी हद तक अपनी किडनीयों को बचा सकते हैं।

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे लाइक करें और अपने दोस्तों के साथ शेयर करें। इसी तरह के आर्टिकल्स को पढ़ने के लिए हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करें।

%d bloggers like this: