Cardio exercise or weight training for fat loss

शरीर में जमा हुआ फैट घटाने के कई तरीके हैं लेकिन सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले तरीकों में से हैं कार्डियो और वेट ट्रेनिंग। यह दोनों तरीके शरीर से फैट घटाने के लिए बहुत ही उत्तम माने जाते हैं और अधिकतर लोग इन्हीं तरीकों से फैट घटाते भी हैं। लेकिन अब सवाल यह है कि इन दोनों में से ज्यादा बेहतर तरीका कौनसा है जिससे ज्यादा तेजी से फैट घटता है। आज हम इन्हीं दोनों तरीकों के बारे जानेंगे और इनमें से कौन सा तरीका बेहतर है और क्यों बेहतर है इसके पीछे का कारण और साइंस दोनों जानेंगे। (Cardio or weight training for fat loss in hindi)

Cardio exercise for fat loss in hindi

कार्डियो एक एरोबिक एक्सरसाइज होती है इसे करने से आपके शरीर से फैट घटता है और आपके दिल और फेफड़ों की हैल्थ अच्छी होती है। जॉगिंग, slow-steady running, ट्रेडमिल, साइकिलिंग, इत्यादि। Slow-steady कार्डियो वह कार्डियो होती है जिसे आप धीमी रफ्तार से करते हैं और लंबे समय तक करते हैं। अधिकतर यह कार्डियो 20-30 मिनट्स तक की जाती है।

क्यूंकि यह एक एरोबिक एक्सरसाइज है जिसका अर्थ है कि आपकी सांस बहुत देर के बाद फूलती है और आपको एक्सरसाइज के दौरान हल्की ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है। साथ ही आपकी हार्टबीट भी अधिक नहीं बढ़ती है और आपका दिल सामान्य से थोड़ा ही तेज धड़कता है। (Cardio or weight training for fat loss in hindi)

Weight training for fat loss in hindi

वेट ट्रेनिंग एक अनाएरोबिक एक्सरसाइज है जिसका अर्थ होता है कि आपको एक्सरसाइज करते समय ऑक्सीजन की बहुत ज्यादा जरूरत पड़ती है और आप इससे 2-5 मिनट से अधिक नहीं कर सकते। उसके साथ आपकी हार्टबीट बहुत तेज हो जाती है और क्यूंकि आपके शरीर को ऑक्सीजन अधिक चाहिए होती है तो आपकी सांस भी तेज हो जाती है। अनायरोबिक एक्सरसाइज को करते समय आपके दिल की धड़कन अपनी मैक्सिमम के 80-90% तक पहुंच जाती है। साथ ही वेट ट्रेनिंग का प्रभाव आपके दिल और फेफड़ों के अलावा आपके शरीर के हर अंग पर पड़ता है और आपका शरीर हैल्थी और ताकतवर भी बनता है। क्यूंकि आप वजन अधिक उठाते है इससे आपके शरीर में कई बदलाव भी आते है और आपके शरीर से फैट घटने के साथ-साथ मसल साइज भी बढ़ता है। (Cardio or weight training for fat loss in hindi)

Benefits of cardio in hindi

कार्डियो करने के लिए आपको किसी सामान या किसी खास जगह की जरूरत नहीं पड़ती। आप अपने घर पर ट्रेडमिल या फिटनेस साइकिल में कार्डियो कर सकते है इसके अलावा आप पार्क में जॉगिंग या रनिंग करने जा सकते हैं। साथ ही इसके लिए आपको किसी ट्रेनर या कोच की जरूरत नहीं पड़ती है। आपको किसी खास ट्रेनिंग मैनुअल या इंफॉर्मेशन की भी जरूरत नहीं पड़ती क्यूंकि दौड़ना हम सभी जानते हैं।

वहीं वेट ट्रेनिंग थोड़ा कॉम्प्लेक्स होता है। उस करने से पहले आपको एक्सरसाइज के बारे में जानकारी इकाती करनी पड़ती है। इसके लिए आपको किसी ट्रेनर या कोच की जरूरत पड़ती है। इसके अलावा आपके शरीर की ताकत धीरे धीरे बढ़ने लगती है जिसके बाद आप काफी अच्छे से भारी वजन उठा पाएं हैं। साथ ही आपको सामान और साथी की भी जरूरत होती जो आपकी भारी वजन उठाने में मदद करता है।

कार्डियो में चोट लगने का खतरा कम होता वहीं वेट ट्रेनिंग में अधिक होता है।

कार्डियो किसी भी उम्र का व्यक्ति के सकते है वहीं वेट ट्रेनिंग जवान लोगो के लिए बेहतर होती है।

Cardio vs Weight training which is better

फैट घटाने में वेट ट्रेनिंग कार्डियो से बेहतर होती है, इसके पीछे कई कारण हैं।

कार्डियो को लंबे समय तक करना पड़ता है जिसके बाद आपके शरीर से जमा हुई कैलोरीज़ जलने लगती हैं। कार्डियो में अकसर पाया गया है कि कैलोरीज़ जलना 20 मिनट के बाद ही शुरू होता है लेकिन अधितकर लोग इतनी लंबी कार्डियो नहीं करते हैं जिसके कारण वह उस सीमा तक पहुंच ही नहीं पाते हैं। कुछ लोग जो 30 मिनट की कार्डियो करते है उन्हें इसका फायदा मिलता है। वहीं वेट ट्रेनिंग में आप पहले rep से ही अपने शरीर को कैलोरीज़ जलाने वाली स्तिथि में पहुंचा देते हैं। क्यूंकि आप भारी वजन उठाते है इसके लिए आपके शरीर को भारी मात्रा में ऊर्जा चाहिए होती जिसके लिए वह आपके शरीर में जमा हुआ फैट भी इस्तेमाल करता है।

Cardio or weight training for fat loss in hindi

इसके अलावा आपकी दिल के लिए भी वेट ट्रेनिंग ज्यादा अच्छी होती है। 45 मिनट्स की वेट ट्रेनिंग करने से आप कार्डियो के मुकाबले अधिक फैट जलाते हैं जिसके कारण आपका फैट जल्दी घटता है।

कार्डियो सिर्फ स्लो टविच मसल फाइबर्स पर कार्य करता है लेकिन वेट ट्रेनिंग फास्ट ट्विच और स्लो टवीच दोनों पर कार्य करती है। कार्डियो से आपकी endurance और स्टैमिना बढ़ता है लेकिन वेट ट्रेनिंग से आपका स्टैमिना, endurace, स्ट्रेंथ और मसल्स सब बढ़ते हैं।

कार्डियो करने से एस्ट्रोजेन हार्मोन कम होता है लेकिन वेट ट्रेनिंग से टेस्टोस्टेरोन, ग्रोथ हार्मोन का स्तर बढ़ता है और साथ ही एस्ट्रोजेन, कॉर्टिसोल इत्यादि का स्तर घटता है जिससे आपका शरीर ताकतवर और जवान लगता है।

साइंस ने ऐसा पाया है कि को लोग वेट ट्रेनिंग करते हैं वे कम स्ट्रेस का शिकार होते हैं साथ ही उनमें किसी भी मुश्किल परिस्थिति को झेलने की क्षमता अधिक होती है। उन्हें ब्लड प्रेशर की समस्या कम होती है और गुस्सा, चिड़चिड़ापन, टेंशन, नींद की समस्या बहुत कम होती है।

वेट ट्रेनिंग वाले लोग अपने खान पान का विशेष ध्यान रखते हैं जिसके कारण उनके शरीर में किसी न्यूट्रिएंट की कमी नहीं होती और उनकी सेहत अच्छी रहती है। साथ ही सभी विटामिन्स और मिनरल्स मिलने से उनका मस्तिष्क बहुत तेज और हैल्थी रहता है। वैसे कार्डियो करने वाले लोग भी अच्छी डायट ले कर अपनी सेहत अच्छी कर सकते हैं लेकिन ऐसा पाया गया है कि कार्डियो करने वाले लोग वेट ट्रेनिंग करने वालो के मुकाबले डायट पर कम ध्यान देते हैं।

कार्डियो को लंबे समय तक करना पड़ता है जिसका बुरा प्रभाव हमारे शरीर पर पड़ता है क्यूंकि हमारा शरीर बहुत लंबे समय तक कार्य करने के लिए नहीं बना होता। वहीं वेट ट्रेनिंग हमारे शरीर को फायदा पहुंचाती है क्यूंकि हमारा शरीर की बनावट और कार्य करने का तरीका वैसा ही होता है।

कार्डियो बच्चों और बुजुर्गो के लिए अच्छा तरीका है जिससे वह अपने आप को फिट और हैल्थी रख सकते हैं क्यूंकि उनकी हड्डियां जवान लोगो के मुकाबले कम मजबूत होती है जिसकी वजह से वेट ट्रेनिंग करना उनके लिए अच्छा नहीं होता। वहीं वे साइकिल पर बैठ कर कार्डियो कर सकते हैं इससे वह स्वस्थ और एक्टिव रहेंगे। वहीं बात करें जवान लोगो की तो उन्हें वेट ट्रेनिंग ज्यादा अच्छा परिणाम देगी। क्यूंकि उनके पास समय कम होता है इसलिए वह 30 मिनट ट्रेडमिल पर दौड़ने की जगह 30 मिनट एक्सरसाइज करके ज्यादा अच्छा परिणाम पा सकते हैं। और साथ ही उन्हें अच्छा मसल साइज भी मिल जाएगा जिससे वह ज्यादा अच्छे और ताकतवर बन जाते हैं।

अगर आप भी जिम या डायट के बारे में जानना चाहते हैं या आप भी एक बेहतरीन बॉडी बनाने के इच्छुक है तो आपको हमारी ebook जरूर पसंद आएगी। जिसमें आपको फिटनेस, ट्रेनिंग, डायटिंग, सप्लीमेंट्स, रेस्ट, रिकवरी सभी टॉपिक पर पूरी जानकारी मिलेगी।

Basic Fitness Guide in hindi

या आप एक अच्छा डायट प्लान्स चाहते है तो हमारे बनाए हुए डायट प्लान्स को खरीद सकते हैं

इसके अलावा अगर आप customized diet plan चाहते हैं या चाहते हैं की हम आपकी डायट और ट्रेनिंग प्लान बनाए तो आप हमें ईमेल कर सकते हैं

Email:- [email protected]

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो इससे लाइक करना ना भूले और यह जानकारी जरूरी लगे तो अपने मित्रों के साथ शेयर करें।
अपने विचार या सवाल कमेंट करके हमें बताएं। इस तरह के और फिटनेस आर्टिकल्स के लिए हमारी वेबसाइट को सब्सक्राइब करें ताकि आपको नए आर्टिकल्स की नोटिफिकेशन मिल सके।

%d bloggers like this: